इश्क़नामा

मेरे इश्क़ की गुज़ारिश है कि मेरे लहू को बहने दो
बड़े दिनों की ये बेचैनी है ज़रा इसको भी कुछ कहने दो।

एक शख्शियत को ‘मन की बात ‘ अपनी कहनी है
लब सिल के लोगो के ज़रा इनको कहने दो।

परवाह के नाम पर ये जो चारदीवारी का पहरा है
ज़रा बेपरवाही के शौक़ में ये पहरा भी रहने दो।

बरसों से जिन्हे मौत को तरसाया है
उनके शौकिया जीने को बस शौक ही रहने दो।

घुटने तक बस कीचड है इस राह में
चल सको तो ठीक नहीं तो साथ बस यहीं तक रहने दो।

इन देशप्रेमी नारों में ख़ोज पाओ तो ख़ोज लो खुद को
न भी ख़ोज पाए तो मरने का ख्याल अभी रहने दो।

रुचि तरन्नुम

इधर उधर की बातें।

चुगलखोरी एक बड़ी ही मज़ेदार चीज़ है, लेकिन सिर्फ तब जब ये दूसरो के बारे में हो। जिस दिन अपने बारे में सुन लो वो बुराई कहलाने लगती है। तो यहाँ तात्पर्य ये है की इस ब्लॉग के ज़रिये मैं चुगली और बुराई दोनों ही करना चाहूंगी। और हाँ दुनिया की बड़ी-बड़ी बातें भी, अगर मौका लगा तो।
तब तक के लिए

धन्यवाद

Hello world!

Hindi Blogs Network पर आपका स्वागत है। ये आपकी पहली प्रविष्टि है, आप इसे मिटा दें या एडिट कर लें। किसी प्रकार की असुविधा होने पर Support @ Hindi Blogs dot NET को ई-मेल द्वारा सूचित करें,
धन्यवाद।